अमेरिका के जेम्स पी. एलीसन और जापान के त्सुकु होन्जो को, नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया

james-p-allison-and-tasuku-honjo-win-nobel-prize-for-medicine

स्टॉकहोम :- चिकित्सा के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा के साथ इस प्रतिष्ठित पुरस्कार समारोह की शुरुआत हो गई | सोमवार को अमेरिका के जेम्स पी. एलीसन और जापान के त्सुकु होन्जो को चिकित्सा के क्षेत्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया | हालांकि, इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिए जाने का फैसला किया गया है | पिछले 70 साल में पहली बार ऐसा है कि साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा | नोबेल एसेंबली ने कहा,‘‘जेम्स एलिसन और तासुकु होन्जो को “ऋणात्मक प्रतिरक्षा विनियमन के अवरोध से कैंसर थेरेपी की खोज के लिए” इस सम्मान से नवाजे जाने की घोषणा की गई है |

 

 

इन दोनों वैज्ञानिकों ने कैंसर के इलाज के लिए ऐसी थेरपी विकसित की है जिसमें प्रतिरक्षा अवरोधक थेरेपी कुछ कैंसर कोशिकाओं के साथ साथ इम्यून सिस्टम से बने प्रोटीनों को निशाना बनाती है | एलीसन टेक्सास विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हैं और होन्जो क्योतो विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हैं | इन दोनों को 2014 में उनके अनुसंधान के लिए अन्य पुरस्कार दिया जा चुका है |

जापान के त्सुकु होन्जो का जन्म 1942 में जापान के क्योटो में हुआ, वह 1984 से क्योटो यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं | वहीं अमेरिकी जेम्स पी एलीसन का जन्म अमेरिका के टेक्सास में 1948 में हुआ था | वह यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के एंडरसन कैंसर सेंटर में प्रोफेसर हैं | इन दोनों प्रतिरक्षा वैज्ञानिकों को ये सम्मान उस प्रोटीन की खोज के लिए दिया है, जो कैंसर की स्टेज में शरीर के इम्यून सिस्टम को कमजोर करता है. इस प्रोटीन का नाम पीडी-1 है |

 

 

एलिसन और होंजो को मिलेंगे 7.35 करोड़ रु.

जेम्स एलिसन और तासुकु होंजो इससे पहले 2014 में अपनी रिसर्च के लिए एशिया का टैंग प्राइज जीत चुके हैं। इसे एशिया का नोबेल भी कहा जाता है। नोबेल जीतने के लिए दोनों को स्वीडन के कारोलिन्सका इंस्टीट्यूट की तरफ से 90 लाख क्रोनर (करीब 7 करोड़ 35 लाख रुपए) दिए जाएंगे।

 

 

पिछले साल चिकित्सा का नोबेल तीन अमेरिकियों को इंसान की बॉयलॉजिकल क्लॉक पर प्रभाव डालने वाले जीन्स और प्रोटीन पर रिसर्च के लिए दिया गया था। इसके जरिए रिसर्चर्स ने लोगों की नींद, ब्लड प्रेशर और खाने की आदतों में प्रभाव डालने वाले कारणों का पता लगाया था।

मंगलवार को भौतिकी के क्षेत्र में नोबेल प्राइज जीतने वाले वैज्ञानिक के नाम का ऐलान किया जाएगा। इसके बाद रसायन का नोबेल और शुक्रवार को नोबेल के शांति पुरस्कार की घोषणा की जाएगी। 1949 के बाद पहली बार मीटू से जुड़े विवादों के चलते साहित्य का नोबेल नहीं दिया जाएगा। दरअसल, विजेता का चुनाव करने वाली स्वीडिश एकेडमी की ज्यूरी मेंबर कटरीना फ्रोस्टेनसन के पति जॉन क्लॉड अरनॉल्ट पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं। इसीलिए 2018 के विजेता के नाम पर मुहर नहीं लग पाई। अरनॉल्ट को सोमवार को ही स्वीडन की एक कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में दोषी पाया। उन्हें दो साल की जेल की सजा हुई |




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *