अक्षय तृतीया : में घर को बनाये ख़ास

download (10)

अपने घर को सजाने के लिए आपको लीक से हटकर चलना होता है, यह आपकी क्रिएटिविटी और अप्रोच पर निर्धारित होता है, कि अपने घर को कैसा लुक दे रहे हैं, ऐसा करते समय आप घर के स्पेस को ध्यान में रखें , हर घर को खास सजावट की दरकार होती है, घर आपका अपना हो, तो क्या कहने, ऐसी सूरत में आप दिल,पैसा और आइडिया का भरपूर उपयोग करते हुए, अपने घर को नया लुक देने में लग जाते हैं, त्योहार और सीजन के हिसाब से घर भी कुछ बदलावों की डिमांड करते हैं, वे बोलते नहीं हैं, लेकिन आपको उनकी आवाज सुननी होती है, तब जाकर सही मायने में आप घर को नया लुक देने में सफल हो पाते हैं, यूं तो घर को सजाने के क्रम में आपके पास आइडिया की कमी नहीं होती है, लेकिन यह सच है कि हर बार आपको एक नए आइडिया पर काम करना होता है, तब जाकर आपका घर दूसरों से खास बनता है। यहां याद रखने की जरूरत है कि आपको घर के आकार के अनुसार अपनी डिजाइनिंग को चूज करना होता है, जब जाकर मनचाही रंगत आती है |

 

 

1बीएचके/स्टूडियो

स्टूडियो अपार्टमेंट में आपको एक ही जगह का उपयोग कई तरीकों से करना होता है, यहां पर जरूरतों के मुताबिक रूप में परिवर्तन करने की ओर ध्यान देना होता है, यहां रहने के क्रम में आप एक ही स्पेस का उपयोग लिविंग रूम, डाइनिंग रूम, स्टडी रूम के रूप में करते हैं, इसलिए जरूरी है ,कि आप एक स्पेस को कई तरह से उपयोगी बनाने और उसे सजाने की कला को जानें।

 

 

जगह की उपयोगिता

जब आप स्मॉल स्पेस के साथ डिलिंग कर रहे होते हैं, तो हर एक इंच का महत्व बढ़ जाता है, ऐसे में समझदारी यह होती है कि आप ऐसे फर्नीचर घर में लाएं, जो बहुउपयोगी हो, जब आप वर्टिकल और हॉरिजेंटल स्पेस को यूज करने जा रहे हों, तो आपके फर्नीचर की सेटिंग जगह के हिसाब से होनी चाहिए, ऐसा करने पर जहां आप स्पेस का बेहतर तरीके से यूज कर सकेंगे, वहीं, इससे देखने में भी यह खूबसूरत लगेगा, आप अपार्टमेंट में अपने घर को रंगों से सजाने जा रहे हैं, तो यहां पर लाइट रंगों का इस्तेमाल करें, क्योंकि गहरे कलर कमरे के खाली स्थान छोटे नजर आते हैं। घर को सजाने के क्रम में सबसे ज्यादा जरूरी है आपका फैसला। एक आईटी प्रफेशनल विकास सिंह कहते हैं कि अपार्टमेंट में रहने के बाद जगह के अनुसार फैसले लेने होते हैं, इसलिए उन्होंने अपने स्टोर रूम को योगा रूम बना दिया है, वह जानते हैं कि योग खुले स्पेस में फायदेमंद होता है, लेकिन वे इससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं, इसलिए उन्होंने यह फैसला लिया है।

 

 

पर्सनल बनाना

आप अपने परिवार की तस्वीर को घर में सही जगह प्लेस करके कमरे को नया लुक दे सकते हैं। जब घर में स्पेस कम हो, तो कई बार व्यापक स्तर पर परिवर्तन करना संभव नहीं हो पाता है, लेकिन पिक्चर के जरिए आप मेहमानों नएपन का अहसास करा सकते हैं। जब आप अलग-अलग तरीके की पिक्चर्स को खास अंदाज में जोड़ने की कोशिश करते हैं,तो यह देखने में सुंदर लगती हैं। इसके लिए अलग-अलग तरीके के पिक्चर फ्रेम का सिलेक्शन करें, जो दीवारों के कलर के साथ मैच करती हो। आप यात्रा करना पसंद करते हैं, तो आप यात्राओं से जुड़ी तस्वीरों को खास अंदाज में पेश कर सकते हैं।

 

 

यादों को सहेजना

छोटे घर में आप अपनी मनपसंदीदा चीजों से घर को सजा सकते हैं, आपको किताबों का शौक है, आर्ट और म्यूजिक पसंद है, तो इससे जुड़ी चीजें घर की सुंदरता को निखारने में मददगार साबित हो सकती हैं, डिजाइन मैनेजर रिता धींगरा कहती हैं कि ऐसी चीजों का स्पर्श खास होता है, खासियत यह होती है कि ये चीजें आसानी से आपको पुरानी यादों में लेकर जाते हैं, इससे बेहतर भला और क्या हो सकता है।

 

 

फर्नीचर

एक्सपर्ट कहते हैं ,कि घर में जगह को खास बनाने में फर्नीचर्स की भूमिका अहम होती है, इसे सजाते समय टेक्चर ओर फेब्रिक का खास ख्याल रखें, ये देखने में और यूज करने दोनों में ही बेहतर होने चाहिए, आप घर के हर एक कमरे में पुरानी चेयर और क्लासिक बुककेस को रख सकते हैं, ये देखने में अच्छे लगेंगे, याद रखें कि आपकी फर्नीचर और दीवारों के रंगों में समानता होनी चाहिए, इससे घर की चीजों की खूबसूरती अपने आप में बढ़ जाती है।

 

 

आप अपने कमरों के रंगों के चुनाव में अपनी पसंद को प्राथमिकता दें,लेकिन गेस्ट रूम के कलर सिलेक्शन में थोड़ी दूसरों की भी सुनें, यहां पर आपको इन बातों पर विचार करना चाहिए, कि कलर के साथ पर्दों, बेडशीट, पिलो का मेल खाना जरूरी है, इसके अलावा घर में कारपेट, गद्देदार आसनी आदि हैं, तो इन्हें सही स्पेस देकर घर की खूबसूरती में इजाफा कर सकते हैं, प्रॉपर्टी एक्सपर्ट कहते हैं कि अपने अपार्टमेंट को सजाने के क्रम में जरूरी है, कि आप हर जगह का उपयोग न करें, कुछ जगहों को यूं ही खुला छोड़ दें, जब आप कमरों के हिसाब से सामान रखते हैं, तो देखने में यह बेहतर लगता है।

 

 

लाइटिंग

घर को सजाने में लाइटिंग की भूमिका अहम होती है, आज के दौर में मार्केट में एक से बढ़कर एक उपकरण मौजूद हैं, जो आपके आशियाने को अलग लुक देने में सक्षम हैं, लाइट को अंतिम रूप देने से पहले यह तय कर लें कि आपको किस जगह के लिए कितनी रोशनी चाहिए, घर में लिविंग रूम, डाइनिंग, रीडिंग और गेमिंग एरिया होते हैं, और उनके हिसाब से आपको अलग-अलग तरीके से आगे बढ़ना होता है, तब जाकर घर की रंगत में इजाफा होता है, बात जब बड़े घरों में रंग की हो, तो आपको अलग अंदाज अपनाना होता है, कमरे बड़े हैं, तो बहुत सारे रंगों का प्रयोग न करें, बड़े कमरों में भी सामान के साथ रंगों का समानता बैठाने की जरूरत होती है, तब जाकर कमरा सुंदर लगता है।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *