अयोध्या में बाबर का कोई नामोनिशान तक नहीं : वेदांती

रिपोर्ट : अमित पाण्डेय, रीडर टाइम्स

लखनऊ :  वेदांती का प्रेस कॉन्फ्रेंस में बयान श्री राम जन्म भूमि के निर्माण के लिए संत लगे हुए है . बाबर ने मंदिर को तोड़वाकर एक गुम्बद तैयार किया जिसमे तीन गुम्बद थे . मंदिर को तोड़वाकर मस्जिद निर्माण कराया गया. कुरान में लिखा हुआ है कि बिना मीनार के मस्जिद नही होती . 2005 में हाइकोर्ट में पूछा गया था क्या प्रामाण है कि मंदिर है . मैने सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड ने बताया 1528 में बाबर ने मंदिर तोड़वाकर मस्जिद निर्माण करवाया था .मस्जिद के नाम पर लगभग 200 वर्षो से कब्जा है .जबकि रामचरित मानस में राम का जिक्र है बलमिल्की रामायण में लिखा है .पहले रामलला का जन्म हुआ था महाराज दशरथ ने भगवान शिव के मंदिर का निर्माण कराया था . नाशा ने बताया कि जहाँ रामलला विराज मान है वहाँ खुदाई कराई वहां तमाममंदिर के चिन्ह मिले .

वहां मस्जिद का कोई प्रमाण नही मिला सारे प्रामान मंदिर के है . तीन जजों ने जहाँ राम लला विराज मान है वही राम जन्मभूमि है माना है . राजा दशरथ के बेटे राम के नाम पर खसरा खेतौनी है इसलिए वहां राम का मंदिर बनना चाहिए .शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कहा था राम की जन्मभूमि पर मंदिर बने . बाबर लुटेरा था डैकत था बाहर का था इनके नाम पर देश मे कोई मस्जिद नही बननी चाहिए . बाबर जब देश में आया था तो सबसे पहले हरियाणा के बाबरपुर में आया था . मुस्लिम वहाँ जाकर मस्जिद का निर्माण कराये . अयोध्या में बाबर व इस्लाम के नाम पर कुछ नही . अयोध्या में कोई सिद्ध कर दे की बाबर के नाम पर कुछ है . अयोध्या में राम के नाम पर ही सब कुछ है .पाकिस्तान में मंदिर को तोड़कर मस्जिद का निर्माण कराया था .पाकिस्तान के कोर्ट ने मस्जिद कीजगह मंदिर निर्माण के लिए कहा . जहाँ मंदिर था वहां मंदिर का निर्माण कराया जब पाकिस्तान में बन सकता है तो हिंदुस्तान में भी बनेगा .

हम देश के हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई के साथ साम्प्रदायिक सद्भावना चाहते है सुन्नी वक्फ बोर्ड के लोग सद्भावना का परिचय दे . सुप्रीम कोर्ट को इसपर संज्ञान लेकर मंदिर का निर्माण कराना चाहिए . कांग्रेस के लोगो ने 2019 के चुनाव तक इसपर सुनवाई के लिए रोक लगवादी . देश मे नरेंद्र मोदी ने सौहार्द बनाये रखने के लिए सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास कहा . मुस्लिमो को चाहिए कि मंदिर निर्माण में योगदान करें . अयोध्या के बाहर मस्जिद निर्माण करा लें कोई परेशानी नही है . जब देश गुलाम था उस काल मे जितने मंदिर तोड़े गए प्राथमिकता के अनुसार देश के मुसलमानों को कह देना चाहिए मंदिर निर्माण हो .

मक्का मदीना जैसे है वैसे ही कह देना चाहिए अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए . सुप्रीम कोर्ट में कुछ निर्णय आ जायेग तो प्रधानमंत्री गृहमंत्री का साथ देने के लिए हम तैयार है . अयोध्या का मतलब है कि जहाँ कोई युद्ध न हुआ हो .योगी जी के गुरु ने एक प्रस्ताव रखा कि हमे तीन मंदिर चाहिए .काशी अयोध्या विश्वनाथ में मंदिर का निर्माण हो . जबकि मुस्लिम आक्रांताओं ने 30 हजार मंदिर तोड़े थे हम तीन मंदिर निर्माण की बात कर रहे है . भारत मे दंगा होता रहे इसके लिए पाकिस्तान सुन्नी वक्फ बोर्ड को पैसा भेजता है . पाकिस्तानी व आतंवादियों के इशारे पर भारत मे दंगे होते है . 49 सैनिकों को मारकर पाकिस्तान ने शाबित कर दिया . देश मे सौहार्द न बना रहे इसलिये पाकिस्तान सुन्नी वक्फ बोर्ड को दे रहा पैसा .

सुन्नी वक्फ बोर्ड को पाकिस्तान पैसा भेजता है ऐसा वसीम रिज़वी कह चुके है .भारत का हर मुसलमान चाहता है कि मंदिर निर्माण हो लेकिन कुछ असामाजिक नही चाहते है कि मंदिर निर्माण हो . दुनिया की कोई ताकत अयोध्या में मस्जिद का निर्माण नही करा सकती है .इसे धमकी मान लो या चेतावनी आचार्य वेदांती स्व: पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने दोनों पक्ष से बात कर के मस्जिद के पास खुदाई कराई तो उसमें मंदिर के पत्थर मिले . SC में शिया वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन ने एक याचिका डाली जिसमे उन्होंने कहा की मस्जिद को तोड़कर मंदिर का निर्माण किया जाए और मस्जिद को लखनऊ में किसी शिया बाहुल क्षेत्र में बने लेकिन मस्जिद का नाम बाबर के नाम पर नही बने . वेदांती ने आगे कहा बाबर कभी आयोध्या गया ही नही .

आयोध्या में जो कुछ है सब राम के नाम पर अयोध्या में कुछ नही है . बाबर के नाम पर आयोध्या में कुछ नही है . मैंने SC में ये बात रखी थी की अगर कोई बाबर के नाम पर अयोध्या में एक गली बता दे लेकिन किसी ने नही बताया . आज मैं सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड के लोगो से कहना चाहूंगा और देश के मुसलमानों से कहना चाहूंगा की पीएम मोदी के साम्प्रदायिक सदभाव चाहते है इसलिए हम भी ये चाहेंगे कि सब मिल जुल कर इस साथ दे . कांग्रेस के पी०चिदंबरम ,शरद पवार,और राजीव ने 2019 तक राम मंदिर के फैसले को टाला . हम देश के मुस्लिम और जजों और वकीलों से कहना चाहूंगा की पीएम की सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास मकसद को लेकर चले . जैसे मक्का मदीना में कोई हिन्दू नही कह सकता है की वहाँ मंदिर है वैसे ही अयोध्या में राम जन्म भूमि मुस्लिमों को ये नही कहना चाहिए कि वहाँ मस्जिद है . मुगलो ने काशी, आयोध्या, मथुरा को लूटा . मुगलो ने 30 हज़ार मंदिरो को तोड़ा था .




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *