रुपईडीहा पुलिस ने पकड़ी ड्रैगन की भारी मात्रा में मटर

बहराइच के बॉर्डर क्षेत्रो में बड़े पैमाने पर हो रही भारत नेपाल सीमा पर चाइनीज़ मटर की तस्करी। 

 रिपोर्ट :- विनोद गिरि , रीडर टाइम्स

IMG-20190517-WA0003

 बहराइच : उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जिला बहराइच के रुपईडीहा नेपाल बॉर्डर पर इन दिनों बड़े पैमाने पर ड्रैगन द्वारा निर्मित सूखी (हरी मटर) की तस्करी पुरजोर तरीके से की जा रही है। नेपाल तस्कर भारत नेपाल सीमा की खुली सीमा का लाभ उठा कर नेपाल के रास्ते चाइनीज़ मटर की खेप भारतीय इलाकों में भेज रहे हैं।  चाइनीज़ मटर की तस्करी को लेकर सीमा पर तैनात सुरक्षा एजेंसियाँ काफी चोकन्नी हो गई हैं। ड्रैगन की जानलेवा मटर काफी हानिकारक है और जानकारों के मुताबिक चाइनीज़ मटर के छोले व बेसन का प्रयोग करने से लोग कैंसर जैसे घातक रोगों के शिकार भी हो सकते है।

ड्रैगन की यह एक सोची समझी साजिश है जैसा जानकारों का कहना है

आज रुपईडीहा थाना कोतवाली पर तैनात मधुप नाथ मिश्र को मुखबिर की सूचना पर नेपाल से ठेलियों पर लादकर  सीमा पार लायी गयी 15 कुन्तल चाइनीज़ मटर की खेप के साथ रुपईडीहा टैक्सी स्टैण्ड के पास दो लोगों को हिरासत में ले लिया है। पकड़े गये पूरन पुत्र सुंदर  निवासी रुपईडीहा तथा आसाराम पुत्र पल्टन निवासी जमुनहा गांव।  कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मधुप नाथ मिश्र ने बताया कि मटर को सीज कर पकड़े गये दोनों आरोपियों को लैण्ड कस्टम कार्यालय रुपईडीहा के सुपुर्द कर दिया है।

अभी पिछले हप्ते 139 बोरी चाइनीज़ मटर की खेप बरामद हुई थी। माल के साथ पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार भी किया था। गुरुवार को मटर की खेप पकड़े जाने से यह लग रहा था कि अब मटर की तस्करी नही होगी मगर तस्करों के हौसले पस्त नही हुए। रुपईडीहा बाजार के किराने की दुकानों पर धड़ल्ले से बिक रहा चाइनीज़ मटर भारत मे उत्पादन होने वाले मटर से काफी सस्ता होता है। इस मटर की कीमत लगभग 25 रुपये किलो है। सस्ती होने के कारण अब रुपईडीहा व आस-पास के दुकानदार भी अपनी दुकानों पर चाइनीज़ मटर ही धड़ल्ले से बेंच रहे हैं। वहीं बहराइच का फूड विभाग भी कुम्भकर्णी नींद सो रहा है। फूड विभाग को चाहिए कि ऐसे दुकानदारों को चिंहित कर उनके विरुद्ध भी कठोर कार्रवाई करे। जिससे दुकानदार पैसे की लालच में मानव जीवन के साथ खिलवाड़ न कर सके।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *