सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर 2019 और उसके बाद : ज्योतिर्विद संजय मिश्रा

Surya Grahan

ज्योतिर्विद संजय मिश्रा के अनुसार :-

26 दिसंबर 2019 को सुबह 10-43 बजे भारतीय समयानुसार दिल्ली में सूर्य ग्रहण हो रहा है, जो आंशिक रूप से भारत में 39.2% तक दिखाई देगा।

धनु राशि और मूल नक्षत्र पर सात ग्रह का प्रभाव है।

वृषभ लग्न के भारतीय स्वतंत्रता चार्ट से ये ग्रह 8 वें घर में पड़ रहे हैं।

लग्न पर मंगल के इस पहलू को जोड़ने से स्थिति हिंसक लहर जैसी पैदा होती है। 8 वां घर एक गुप्त घर है और आतंकवाद पर शासन करता है।

25 से 28 दिसंबर 2019 तक फिर से मौसम में जोरदार बदलाव का संकेत दिया गया है।

शक्तिशाली तूफान जैसे हवाएँ, और हिल स्टेशनों में जोरदार बर्फ़बारी उत्तर-भारत, पश्चिमी और मध्य भारत में अत्यधिक ठंड मौसम में लाएगी। उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी भारत के कई हिस्सों में भी बारिश होगी।

भारत, पाकिस्तान ईरान क्षेत्र में एक जबरदस्त भूकंप का संकेत है।

समय के साथ आतंकवादी योजनाएँ सामने आएंगी और एक बड़ी त्रासदी टल जाएगी।

एक या दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय नेताओं को अपमानित किया जाएगा और उनके लिए कुछ खतरा या गुप्त योजना है।

19 दिसंबर से मार्च 2020 तक कुछ महत्वपूर्ण नेताओं का आतंकवादियों के साथ संपर्क में होने का खुलासा किया जाएगा और उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

यह ग्रहण मार्च, मई, जून से अगस्त 2020 तक कई हिंसक घटनाओं का अग्रदूत होगा, जो विश्व के कई हिस्सों में मिनी-युद्ध जैसी स्थिति पैदा करेगा।

अमेरिका, जापान, ईरान, कोरिया, सीरिया क्षेत्र मे युद्ध और हिंसा की पूर्ण संभावना हैं।

मार्च 2020 से अगस्त 2020 के बीच कभी भी बृहस्पति-शनि का मिलन भारत, पाकिस्तान, चीन के बीच युद्ध जैसी स्थिति पैदा कर देगा।

20 सितंबर 2020 से 18 मार्च 2022 तक राहु भारत के चार्ट वृषभ लग्न में वृष राशि में रहेगा।

इसलिए 2019, 2020 और 20 नवंबर 2021 तक बृहस्पति-शनि की युति भारतीय कानूनों में कई बदलाव लाएगी और सर्वोच्च न्यायालय के कुछ महत्वपूर्ण निर्णय ऐतिहासिक महत्व के होंगे और देश की संपूर्ण दिशा बदल देंगे।

मार्च 2022 के बाद केवल अच्छे लोगों के लिए चीजें बसनी शुरू हो जाएंगी और हमारा देश भारत अपनी महान भारतवर्ष की मूल स्थिति को पुनः प्राप्त करना शुरू कर देगा या दूसरे शब्दों में हम फिर से इस स्थिति को प्राप्त करेंगे

वंडर देट वाज इंडिया

जैसा कि मैंने पहले कहा है कि घटनाओं की एक जोरदार श्रृंखला दिसंबर 2019 से शुरू होगी, जिसके बाद हमारे देश में प्रणाली का जबरदस्त मंथन होगा।

पौराणिक कथा के समान स्थिति

समुंद्र मंथन

जिसमें शुरू में सभी बुराई सतह पर होगी, सिस्टम से टकराएगी और फिर नए और बहुत सकारात्मक और शक्तिशाली भारत के लिए मार्ग प्रशस्त होगा या अंत में दूसरे शब्दों में अमृत बहेगा और भारत में रहेगा।

इसलिए 2023 से हम एक बहुत शक्तिशाली राष्ट्र बन जाएंगे।

शुभामनाएं इंडिया।

नोट :- ये लेखक के अपने विचार हैं .




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *